Thursday, February 3, 2011

कार्टून- सप्रेम समर्पित

उन समस्त सरकारी-गैर सरकारी तत्वों को, जो वर्तमान मंहगाई हेतु कहीं-न-कहीं से जिम्मेदार हैं! 


1

2

3

4

5





15 comments:

  1. वाह एक से बढ़कर एक :)

    ReplyDelete
  2. चलिए सपने कभी तो सच होगें।

    ReplyDelete
  3. आपकी उम्दा प्रस्तुति कल शनिवार ०५.०२.२०११ को "चर्चा मंच" पर प्रस्तुत की गयी है।आप आये और आकर अपने विचारों से हमे अवगत कराये......"ॐ साई राम" at http://charchamanch.uchcharan.com/
    चर्चाकार:Er. सत्यम शिवम (शनिवासरीय चर्चा)

    ReplyDelete
  4. सभी अर्थपूर्ण और सटीक हैं भाई ....यूँ ही लगे रहो

    ReplyDelete
  5. मनोज जी
    आपका आभार इस टिप्पणी के लिए ...आशा है आपका मार्गदर्शन और सहयोग निरंतर मिलता रहेगा ...

    ReplyDelete
  6. एक और होता तो सिक्सर लग जाता....सभी करारे व्यंग है...बधाई।

    ReplyDelete
  7. सभी सटीक .....
    सभी करारे....
    बधाई।

    ReplyDelete
  8. मनोज जी आप जो मसाला गुदगुदाने के लिये पेश करते है , सभी बेहतरीन होते है................ ये भी सब कमाल के है. सिक्सर पर ये पंजा भी भारी है.....

    ReplyDelete
  9. @ Kajal Kumar Ji,
    @ Dr.Monika Sharma,
    @ Ehsas
    @ Suresh Sharma ji,
    Thanks for your valuable Compliments.

    ReplyDelete
  10. @ Er. Satyam Shivam
    चर्चा-मंच में शामिल करने के लिए धन्यवाद.

    ReplyDelete
  11. @ Keval Ram ji,
    @ Dr.(Miss) Sharad Singh,
    @ Dr. Varsha singh,
    @ Upendra bhai ji,
    हौसला आफजाई के लिए तहेदिल से धन्यवाद.

    ReplyDelete
  12. क्या मनोज बाबू करारा मार रहें है दे दनादन। मार गई मंहगाई।

    ReplyDelete
  13. सटीक करारे व्यंग है...

    ReplyDelete